Pages

Tuesday, 30 April 2013

मेरे जिस्म मे तेरी रूह सांस लेती है




















मेरे बदन मैं तेरी रूह सांस लेती है
वगरना मैं भी फना कब का हो गया होता
____________मुकेश इलाहबादी