Pages

Thursday, 2 May 2013

अजीब है चाहत अपनी, क्या बताऊँ


















अजीब है  चाहत अपनी, क्या बताऊँ
दुनिया को जीत कर उससे हार जाऊं
मुकेश इलाहाबादी --------------------