Pages

Wednesday, 8 May 2013

बारिस की शाम पुरनम हवा मे फुरसत से बैठे हैं वो




 बारिस की शाम पुरनम हवा मे फुरसत से बैठे हैं वो
चाय की चुस्कियों संग रह रह के याद आता है कोई
मुकेश इलाहाबादी ----------------------------------------