Pages

Wednesday, 25 June 2014

ख़तो किताबत से दिल अब भरता नहीं,,

ख़तो किताबत से दिल अब भरता नहीं,,
कि मुकेश मुलाक़ात होना बहुत ज़रूरी हैं
मुकेश इलाहाबादी -------------------------