Pages

Sunday, 24 August 2014

नाम सूरज शहर अँधेरा देखा

नाम सूरज शहर अँधेरा देखा
हमसे मत पूछो क्या क्या देखा

काले धंधे काली करतूतें जिनकी
पैरहन उनका हमने उजला देखा

दुनिया लाख क़सीदे पढ़ती हो पै
चाँद का मुँह भी हमने टेढ़ा देखा

ज़मीं की मुहब्बत में उफ़ुक़ पर
हमने आसमान को झुकता देखा

मुकेश दिन भर हँसता रहता है
पर हर साँझ उसे संजीदा देखा

मुकेश इलाहाबादी ---------------