Pages

Monday, 4 August 2014

मशाल बन के हम जला करते हैं

मशाल बन के हम जला करते हैं
तीरगी में जुगनू सा फिरा करते हैं
मुकेश इलाहाबादी ------------------