Pages

Thursday, 28 August 2014

हमसे तो बहुत दूर रहती है वो

हमसे तो बहुत दूर रहती है वो
रक़ीब के करीब लगती है वो
 
ग़ज़लें मेरी सुन सुन के, एक 
मासूम सी हंसी हंसती है वो 
 
यूँ तो वो बातें बहुत करती है
पर फासला इक रखती है वो
 
दिल हमारा जिसपे आया है
मेरे घर के करीब रहती है वो
 
लब भले खामोश हों उसके
आखों से सबकुछ कहती है वो
 
जब से हुई है उसे मुहब्बत सी
जाने क्यूँ चुप चुप रहती है वो
 
पूछूंगा इक दिन ज़रूर उससे
संजीदा इतनी क्यूँ रहती है वो

मुकेश इलाहाबादी ---------------