Pages

Sunday, 3 July 2016

सुना है, दुनिया गोल है

सुना है,
दुनिया गोल है
पर् ,
शायद ,
इतनी भी गोल नही
कि,
चल - चल कर
हम फिर, वहीं मिल् जाते
जहां से बिछड़े थे
क्यूँ , सुमी,
सही कह रहा हूँ न ??

मुकेश इलाहाबादी -----