Pages

Friday, 19 August 2016

समंदर बादल बन जाये तो भी क्या होगा

समंदर बादल बन जाये तो भी क्या होगा
कुछ  दिन बारिश होगी फिर  सूखा होगा

आज तुम मेरे घर आये तो रौशनी सी है
तेरे जाने के बाद फिर गुप्प अँधेरा होगा

तुमने हाले दिल पुछा, साँस चलने लगी
तुम्हारे जाने के बाद न जाने क्या होगा?

रात महताब रो रहा था सितारे रो रहे थे
फ़लक़ से ज़रूर कोई सितारा टूटा होगा ?

यूँ तो फितरत नहीं मुकेश की रोने की,
ज़रूर किसी ने दिल उसका दुखाया होगा

मुकेश इलाहाबादी ---------------------------