Pages

Tuesday, 13 June 2017

हमारे शहर में पत्थर बोलते हैं

हमारे शहर में पत्थर बोलते हैं
खामोश चेहरों पे ग़म बोलते हैं

हों जिस घुन घुने में दाने कम
वे अक्सर  घन - घन बोलते हैं

खुशी और ग़म में साथ साथ हो
दोस्त उसी को हमदम बोलते हैं

मुकेश से बात कर लेता हूँ, पर
महफ़िलों में हम कम बोलते हैं

मुकेश इलाहाबादी -------------