Pages

Tuesday, 13 June 2017

छतरी

धूप
और बारिश में
न जाने क्या होता ?

तुम्हारी यादों की
सतरंगी छतरी न होती तो ?

मुकेश इलाहाबादी -----------