Pages

Friday, 7 July 2017

उन्ही - उन्ही गलियों में अटका हुआ है

उन्ही - उन्ही गलियों में अटका हुआ है
मुसाफिर, शायद राह से भटका हुआ है
दरवाज़ा खोल के देखा, कोइ नही, फिर
क्यूं किसी के होने का खटका हुआ है ?
न वो हाँ कहती है, न  ही 'न' कहती है,
दिल अजब कश्मकश में लटका हुआ है
मुकेश इलाहाबादी ------------------------