Pages

Saturday, 13 April 2013

चाँद से चाहत की आरज़ू की थी, कि



 
चाँद से चाहत की आरज़ू की थी, कि
अब फलक से टूटा हुआ सितारा हूँ मै
मुकेश इलाहाबादी --------------------