Pages

Friday, 12 April 2013

दिन के उजाले मे सो जाऊं


दिन के उजाले मे सो जाऊं
रात  का घना साया हो जाऊं
आज तक लावा बन के बहा
कह दो तो दरिया हो जाऊं
उम्र भर मुहब्बत बोता रहा
सोचता हूँ कांटे भी बो जाऊं
सभी तो ग़मज़दा मिलते हैं
किस्से जा के दुखड़ा रो जाऊं 
बहुत मैली हो गयी है चादर,
मै भी गंगा में जा, धो जाऊं ?
मुकेश इलाहाबादी -----------