Pages

Wednesday, 1 May 2013

तेरा गैरों से यूँ बात करने का ये लहज़ा हमें अच्छा न लगा

तेरा गैरों से यूँ बात करने का ये लहज़ा हमें अच्छा न लगा
कुछ नरम लहजा मेरे लिए भी होता तो इतना बुरा न लगता
मुकेश इलाहाबादी ---------------------------------------------------