Pages

Monday, 6 May 2013

अपने आँचल को तुम ज़रा आहिस्ता लहराना

 





















अपने आँचल को तुम ज़रा आहिस्ता लहराना
तेरी दहलीज़ पे अपनी चाहतों का मासूम दिया रख आये हैं
मुकेश इलाहाबादी ---------------------------------------------