Pages

Sunday, 5 May 2013

हवाओं मे कसैला धुआँ सूंघता हूं

हवाओं मे कसैला धुआँ सूंघता हूं
फजाओं मे तेरी महक ढूंढता हूं

भटकता हूं तेरे कूचे मे कब से
हर एक से तेरा पता पूंछता हूं

इक बार तेरी ऑखों से पी थी
अब तक तेरे नषे मे झूमता हूं

मुसलसल पडती हैं यादों की चोटे
पत्थर सही पै हर रोज टूटता हूं

गर झूठ से तख्तेताउस भी मिले,
तो ऐसी बाद्शाहियत पे थूंकता हूं


मुकेश इलाहाबादी -------------------