Pages

Tuesday, 22 July 2014

मन में उजास लिए बैठी है




मन में उजास लिए बैठी है
आखों में लाज लिए बैठी है
रचा के हाथ - पैरों में मेहंदी
पिया का ख्वाब लिए बैठी है
मुकेश इलाहाबादी ---------