Pages

Friday, 4 July 2014

फ़लक़ ऐ ज़ीस्त में कभी सूरज भी तुलू होगा ?



 फ़लक़ ऐ ज़ीस्त में कभी सूरज भी तुलू होगा ? 
तेरी ज़ुल्फ़ों के छाँव में हमने ये सोचा ही नहीं !
मुकेश इलाहाबादी --------------------------------