Pages

Wednesday, 10 September 2014

अच्छी हो या कि बुरी कट ही जाएगी

अच्छी हो या कि बुरी कट ही जाएगी
ज़िदंगी का क्या है ? गुज़र ही जाहेगी

सुबह से लेकर शाम तक चल रहे हैं तो
कभी न कभी मंज़िल मिल ही जाएगी

तनहा हैं तो तनहा ही रह लेंगे उम्रभर
तबियत का क्या है बहल ही जाएगी

आखिर कब तक सिर पटकती रहेंगी
उदास हो के उदासी भी लौट ही जाएगी 

उम्र सारी मुफ़्लासी में गुज़री तो क्या ?
मुकेश दो गज़ ज़मीन मिल ही जाएगी

मुकेश इलाहाबादी ------------------------