Pages

Tuesday, 21 June 2016

ज़िंदगी तनाव मे है

ज़िंदगी तनाव मे है
नदी के बहाव मे है
पतंग कैसे उड़ेगी ?
हवा के दबाव मे है
तुम्हारी सारी यादें
मे्रे रखरखाव मे है
मुकेश कुछ अंगारे
देख तो कुछ अंगारे
इस बुझे अलाव मे है

मुकेश इलाहाबादी --