Pages

Friday, 1 July 2016

ऊपर - ऊपर राख दिखेगी

ऊपर - ऊपर  राख दिखेगी
अंदर - अंदर अाग मिलेगी
रफ़्ता - रफ़्ता बढ़ता जा तू
मंज़िल अपने अाप मिलेगी
मुकेश इलाहाबादी -------------