Pages

Wednesday, 27 July 2016

जिंदगी अपनी मुस्कुराने लगी है तब से

जिंदगी अपनी मुस्कुराने लगी है तब से 
नज़दीक मेरे आप आने लगे हैं, जब से 

इक बार आप आ कर देखें ज़रा छत से 
खड़े हैं आपके दर पे हम न जाने कब से 

दे दें गर इज़ाज़त बटोर लूँ दौलत को,जो
हंसी के हीरे मोती झरते हैं आपके लब से

फक्त  आप की  झलक पाने के बाद से ही
इबादत में  आप को ही मांगते हैं रब से

मुकेश इलाहाबादी -----------------------