Pages

Friday, 9 December 2016

इक खामोश दरिया बहता रहा अपने दरम्यां

इक खामोश दरिया बहता रहा अपने दरम्यां
उम्र भर कोई पुल न बन सका अपने दरम्यां
मुकेश इलाहाबादी ----------------------------