Pages

Thursday, 6 July 2017

यादों के पत्ते पर

यादों
के पत्ते पर
तुम्हारे नाम का चराग़ जला कर
वक़्त के दरिया में बहा आया हूँ

देखना ये चराग़ कभी न कभी तुम तक पंहुचेगा ज़रूर

मुकेश इलाहाबादी -------------------------------