Pages

Thursday, 6 July 2017

किसी , दिन तो

किसी ,
दिन तो सावन से ऊब कर
तुम देखोगी
पतझड़ को
और --- अचानक याद आ जाऊँगा 'मै'

किसी दिन तो
तुम देखोगी
गरजते - बरसते मेघों को
और तुम्हे 'मै ' याद आ जाऊँगा

किसी दिन तो ........ ...
फुर्सत मिलते ही तुम सोचोगी
मेरे बारे में

तब तक मै घुल चूका होऊँगा आकाश में
फिर कभी न जमने के लिए
फिर कभी न बरसने के लिए
सावन भादों के मेघ सा

मुकेश इलाहाबादी --------------