Pages

Thursday, 13 July 2017

लापता हो जाता है

चाँद,
लापता हो जाता है
सूरज कहीं समंदर में डूब जाता है
सितारें अंतरिक्ष की
अतल गहराइयों में खो जाते हैं
मै 'मै ' नहीं रह जाता
'मै' चेतना शून्य हो जाता है
ऐसा तब होता है
जब तुम मुझसे
दूर होती हो
या नाराज़ होती हो
सुन रही हो न ?
मेरी दुनिया
मेरी ब्रह्माण्ड
मेरी सुमी

मुकेश इलाहाबादी ---------