Pages

Monday, 17 July 2017

तुम सबसे जुदा हो

तुम्हारी
तस्वीर किसी भी तरफ से देखो
खूबसूरत ही लगती हो

तुम्हे किसी भी रूप में सोचो
आसमानी परी लगती हो

जज़्बात और ऊर्जा से भरपूर दिखती हो

षड ऋतुओं में बसंत ऋतु हो

ब्रह्माण्ड  की तमाम निहारिकाओं में
आकाश गंगा हो
सितारों की भीड़ में शुक्र तारा हो

वर्णमाला के सारे वर्ण मिला के भी
तुम्हारे बारे में सब कुछ नहीं कह पाएंगे

लिहाज़ा इतना ही कहूँगा
तुम सबसे जुदा हो
सब से अलहदा हो

मुकेश इलाहाबादी -----------------