Pages

Tuesday, 11 July 2017

तुम, तनहा मुसाफिर

तुम,कहती हो  'मै, तनहा मुसाफिर
मै,कहता हूँ 'मै,  सूनी और लम्बी सड़क

(तुम्हे मंज़िल की तलाश है , और सड़क की कोइ मंज़िल नहीं होती )

मुकेश इलाहाबादी -----------------------------------------------------