Pages

Thursday, 27 July 2017

सांझ उतर आयी है


सांझ
उतर आयी है
चाँद भी निकलने वाला होगा
आओ छत पे चलते हैं

रात
चाँद सफर में है
आओ हम भी निकलें
ख्वाबों के सफर में

सुबह
चाँद डूब जायेगा
कुछ देर में
खिड़िकयों के परदे लगा दो
हम भी कुछ देर सो लें


मुकेश इलाहाबादी --