Pages

Wednesday, 2 August 2017

तेरे इश्क़ के उपवन में हूँ


तेरे इश्क़ के उपवन में हूँ
जाने किस उलझन में हूँ

तू मेरे अंदर है और मै भी
तेरी आँखों के दर्पन में हूँ

बिंदिया में हूँ चूड़ी  में  हूँ
पायल में हूँ कंगन में हूँ

प्यार  करे तू  तो बाहों में
वरना झूठी अनबन में हूँ  

तेरे गालों के डिम्पल में,
तू खुश है तो चुंबन में हूँ

तू साथ रहे तो लगता है
जैसे की मै मधुबन में हूँ

वैसे तो मै हूँ उड़ता पंछी
पर अब, तेरे बंधन में हूँ

मुकेश इलाहाबादी ---------