Pages

Saturday, 28 June 2014

खुश्बुओं के पाँव नहीं महक होती है

खुश्बुओं के पाँव नहीं महक होती है
ढूंढ लेना तुम इन्हे अपनी साँसों में
मुकेश इलाहाबादी -------------------