Pages

Friday, 23 June 2017

दिन को उजाला रातों को अँधेरा नहीं मिलता

दिन को उजाला रातों को अँधेरा नहीं मिलता
अजीब शहर है यंहा कोई हँसता नहीं मिलता

दुःख दर्द अपना हर कोई बाँटना चाहता तो है
हमदर्द नहीं मिलता कोई अपना नहीं मिलता

जिधर देखो उधर ही, दर्दों ग़म के अफ़साने हैं
अफसाना ऐ मुहब्बत कोई गाता नहीं मिलता

खिलाड़ी, व्यापारी, नेता,पंडित,पुरहित मिलेंगे
रैदास सा मोची कबीर सा जुलाहा नहीं मिलता


मुकेश इलाहाबादी ---------------------------------