Pages

Friday, 23 June 2017

तुम्हे शिकायत हम शिद्दत से सुनते नहीं

तुम्हे शिकायत हम शिद्दत से सुनते नहीं
तुम भी तो हमसे खुलके कुछ कहते नहीं

चलो लौट चलते हैं फिर वही अपने रस्ते
तुम्हारे और हमारे रस्ते कंही मिलते नहीं

तू गुल है आज खिलेगी कल भी खिलेगी 
हम तो पत्थर हैं हम पे बहारें आती नहीं

मुकेश मै नदी का इक किनारा तुम दूसरा
दो किनारे कभी इक दूजे में सिमटते नहीं

मुकेश इलाहाबादी --------------------