Pages

Monday, 26 June 2017

मृगतृष्णा

तुम्हारी,
दोस्ती ऐसी मृगतृष्णा है, जहाँ लगता  तो है  मीठे पानी का समंदर है
पर, जितनी दूर तक देखो रेत  ही रेत नज़र आती है -
फिर भी, न जाने क्यूँ, इस रेगिस्तान में प्यास और पसीने  से तर बतर चलते
और चलते रहना चाहता हूँ -  भले ही थकन से पोर - पोर टूट जाए
और एक दिन खुद भी इसी रेगिस्तान में रेत बन बिखर जाऊं
मीठे पानी की चाहत में - तुम्हारी आँखों के रेगिस्तान में -
ओ ! मेरी मृगतृष्णा -

ओ !  मेरी मैना - तुम्हरी  मीठी - मीठी बोली ही तो मेरे जीवन का उत्सर्ग  है
मेरे जीवन की प्यास है -

क्यूँ सुन रही हो न मेरी मृगनयनी ?
सच ! तुम्हारी इन कजरारी - कजरारी बड़ेरी अँखियों में डूब जाना चाहता हूँ -
हमेशा - हमेशा के लिए - भले ही तुम्हारी इन आँखों
में रेत का - तन्हाई का - अजीब सी मस्ती का माया जाल हो -
सच , तुम्हारे इसी माया जाल में फंसा रहना चाहता हूँ जन्मो जन्मो तक - युगों युगों तक
जब तक कि क़यामत न आ जाये
ये दुनिया दुनिया फ़ना न हो जाए।

मुकेश इलाहाबादी -------------------