Pages

Friday, 28 July 2017

झरना

जैसे
बहता है झरना
चट्टानों के भीतर - भीतर
वैसे ही
तुम बहती हो
मेरे भीतर - भीतर

मुकेश इलाहाबादी ---------