Pages

Sunday, 30 July 2017

साथ साथ चलें

काश !
हम तुम साथ साथ चलें
और
रुक जाए 'वक़्त '

मुकेश इलाहाबादी -------