Pages

Tuesday, 11 July 2017

कपास के फूल


चाहता हूँ
तुम्हारी
हँसी कपास के फूल सा खिलती है  
जिसे मै हवा सा ले उड़ना  चाहता हूँ

मुकेश इलाहाबादी ------------