Pages

Saturday, 5 August 2017

मै ही पर्वत बनू

मै ही पर्वत बनू
मै ही सागर बनू

(बीच में तुम बहो दरिया सा )

मै ही सूरज बनू
मैँ ही चाँद बनू

(बीच में तुम डोलो धरती सा )

मुकेश इलाहाबादी -----------