Pages

Sunday, 6 August 2017

बादल सा आते हो बारिश लाते हो


बादल सा आते हो बारिश लाते हो
हम सूखी धरती हरा  कर जाते हो
उदास दिल थोड़ा खुश हो जाता है
तुम खिलखिलाते हुए जब आते हो
जब कभी मायूस हो जाता हूँ,मित्र
तुम ही तो हो जो हौसला बढ़ाते हो
राह गलत जो पकड़ूँ मै, तब - तब
दीपक बन तुम ही राह दिखाते हो

(मित्रों की माला का नायब मोती हो तुम )

मुकेश इलाहाबादी -----------------